Card image cap

कश्मीरी पंडितों को न्याय मिले

अनन्त श्री विभूषित श्री ऋगवैदिय पूर्वाम्नाय गोवर्धनमठ पुरीपीठाधिश्वर श्रीमज्जगदगुरु शंकराचार्य भगवान के काश्मीरी पंडितों पर अमृतवचन :- केवल बाल ठाकरे जी ने बहुत से काश्मीरी विस्थापितों की सेवा का प्रकल्प चलाया | जम्मू में आज भी तम्बू में तीन-तीन पीढ़ी से कष्ट पा रहें हैं २६ वर्षों की अवधि से | काश्मीरी विस्थापित उनके नाम […]

Read More
Card image cap

दारुब्रह्म

श्रीपुरुषोत्तमक्षेत्र पुरीमें नीलमहोदधिके तटपर नीलाद्रिके सन्निकट श्रीजगन्नाथादि दारुब्रह्म प्रतिष्ठित हैं। ऋग्वेदने दो ऋचाओंके माध्यमसे उनका यशोगान किया है – “अदो यद्दारुप्लवते  सिन्धो: पारे अपूरुषम् । तदारभस्व  दुहणो   तेन  गच्छ  परस्तरम्।। (ऋग्वेद 10. 155. 3) , यत्र    देवो   जगन्नाथ:   परपारं  महोदधे:। बलभद्र:  सुभद्रा  च तत्र  माममृतं   कृधि।। (ऋग्वेदपरिशिष्ट )” । नीलगगनमें सन्निहित नीलशब्द गम्भीरता तथा अनन्तताका […]

Read More
Card image cap

Swami Nishchalananda Saraswati

Swami Nischalanand Saraswati Maharaj 145th Srimad Jagadguru Sankaracharya Govardhan muth- Puri Peeth, Odisha His Holiness Swami Nischalananda Saraswati Maharaj , the hundred forty fifth pontiff of this monastery ( Puri) has been carrying on his shoulders these very pious  obligations with exemplary dynamism since 1992. A highly deserving recipient of the profuse and sublime grace […]

Read More