ईसवी सन से ५०७ वर्ष पूर्व भगवान शिव शंकराचार्य के रुप में भारत के केरल क्षेत्र में उत्पन्न हुऐ । वायुपुराण में , शिव पुराण में शंकराचार्य को शिव का ही अवतार माना गया है । कुल बत्तीस वर्ष की आयु उन्हें प्राप्त थी । बत्तीस वर्ष की आयु की सीमा में उन्होंने ईश , […]

More About

Latest Aricle

स्वस्थ क्रान्तिकी उद्भावना

Our Message

कश्मीरी पंडितों को न्याय मिले

Media

चातुर्मास 2017

Matha Activities

Sweataswatara Upanishad(श्वेताश्वेतर उपनिषद्)

Our Publication

Shree Shivavatara Bhagavadpada Shankaracharya (श्री शिवावतार भगवत्पाद शङ्कराचार्य)

Our Publication

Sarvabhauma Sanatana Siddhanta (सार्वभौम सनातन सिद्धान्त)

Our Publication
A Lecture by Shankaracharya Swami Nischalananda Saraswati | IIT BHU

Message by Shankarachraya

Govardhana Peeth

स्वस्थ क्रान्तिकी उद्भावना

Memorandum of Aditya Bahinee to the Hon’ble Chief Minister

शंकराचार्य जी का शासनतंत्र को निर्देश

श्री जगदीश रथयात्रा एवं चातुर्मास्यव्रत-निमंत्रण पत्र

केरल में हुई गोहत्या के विरोध में जगद्गुरु शंकराचार्य

Our Publication

Govardhana Peeth

स्वस्थ क्रान्तिकी उद्भावना

प्रिय पाठकवृन्द! सस्नेह स्मरण। भारत सैद्धान्तिक धरातलपर स्वतत्र नहीं है। देशके मौलिक और प्रशस्त स्वरूपको ख्यापित करना स्वतन्त्रताका लक्ष्य है। सनातन वैदिक आर्यसिद्धान्त दार्शनिक, वैज्ञानिक और व्यावहारिक धरातलपर इस महायान्त्रिक युगमें भी सर्वोत्कृष्ट है। वेदविहीन विज्ञान देहात्मवादका पोषक,पर्यावरणका प्रदूषक तथा अत्यन्त विस्फोटक है। भारत अपनी मेधाशक्ति, रक्षाशक्ति,वाणिज्यशक्ति और श्रमशक्तिका सदुपयोग करनेमें अक्षम है। व्यक्ति, वर्ग […]

कश्मीरी पंडितों को न्याय मिले

अनन्त श्री विभूषित श्री ऋगवैदिय पूर्वाम्नाय गोवर्धनमठ पुरीपीठाधिश्वर श्रीमज्जगदगुरु शंकराचार्य भगवान के काश्मीरी पंडितों पर अमृतवचन :- केवल बाल ठाकरे जी ने बहुत से काश्मीरी विस्थापितों की सेवा का प्रकल्प चलाया | जम्मू में आज भी तम्बू में तीन-तीन पीढ़ी से कष्ट पा रहें हैं २६ वर्षों की अवधि से | काश्मीरी विस्थापित उनके नाम […]

Shree Shivavatara Bhagavadpada Shankaracharya (श्री शिवावतार भगवत्पाद शङ्कराचार्य)